उत्तराखंड: UKSSSC मामले में इन चार को मिली जमानत, इस शर्त का करना होगा पालन

उत्तराखंड: UKSSSC मामले में इन चार को मिली जमानत, इस शर्त का करना होगा पालन

देहरादून : UKSSSC पेपर लीक मामले में चार आरोपियों को जमानत मिल गई है। इस मामले में पंतनगर विश्वविद्यालय के अधिकारी दिनेश जोशी समेत चार लोगों को देहरादून कोर्ट से जमानत मिल गई है। इस केस में जिन 21 मुख्य आरोपियों पर गैंगस्टर लगाई गई है, उनकी जमानत के फिलहाल कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं।

पेपर लीक मामले में एसटीएफ ने कुल 41 लोगों को गिरफ्तार किया था, जिसमें आज चार को जमानत मिल गई है। चारों आरोपियों को जमानत जज आशुतोष कुमार मिश्र की कोर्ट ने दी, जिन चार आरोपियों को कोर्ट से जमानत मिली है, उनमें पंतनगर विश्वविद्यालय के पूर्व AEO दिनेश जोशी के अलावा अभ्यर्थी तुषार चौहान, भावेश जगूड़ी और अंकित रमोला हैं।

इस मामले में पहली बार किसी आरोपी को कोर्ट से जमानत मिली है, वहीं इस मामले में STF कहना है कि उन्होंने पर्याप्त सबूत और साक्ष्यों के आधार पर पांच अक्टूबर से पहले ही कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है।

जमानत मिलना एक कानूनी प्रक्रिया है, इस मामले में 21 मुख्य आरोपी जिन पर गैंगस्टर लगाई है या फिर जिनके खिलाफ एसटीएफ के पास पर्याप्त सबूत हैं, उनको जमानत मिलना आसान नहीं है।

बार काउंसिल के सदस्य और वरिष्ठ अधिवक्ता चंद्रशेखर तिवारी का कहना है, देहरादून जिला न्यायालय ADG चुतुर्थ आशुतोष मिश्र की अदालत से यूनिवर्सिटी के पूर्व अधिकारी दिनेश जोशी की जमानत मंजूर हुई हैं।

चंद्रशेखर तिवारी ने बताया कि जमानत को लेकर कोर्ट में दो दिनों तक बहस हुई, इसके बाद शुक्रवार को कोर्ट ने इस तर्क पर दिनेश जोशी को जमानत दी कि उनके पास से कोई धनराशि की रिकवरी नहीं हुई है।

इसके अलावा दिनेश जोशी पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने 80 लाख रुपए में अभ्यर्थियों को पेपर बेचा है, लेकिन इसका भी कोई पर्याप्त सबूत एसटीएफ पेश नहीं कर सकी, इतना ही नहीं जिन छात्रों को पेपर बेचने का आरोप लगाया गया है, उनको केस में आरोपी ना बनाकर मात्र उनके बयानों के आधार पर ही जोशी को आरोपी बनाया गया है।

आरोपियों को एक-एक लाख रुपए के मुचलके और एक लाख रुपए का बॉन्ड भरवाया गया है। इतना ही नहीं जमानत मिलने वाले आरोपियों को देश छोड़ने पर पाबंदी लगाई गई है।

Avatar

ताज़ा कवरेज (Taza Coverage)

ये भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *