Ankita Murder Case : 19 साल की अंकिता भंडारी की हत्या के बाद से उत्तराखंड में लोगों में भारी आक्रोश है। अंकिता के पिता वीरेंद्र सिंह भंडारी ने पुलिस महानिदेशक उत्तराखंड अशोक कुमार से दूरभाष पर बात की। पिता ने DGP से कहा कि तीनों आरोपितों का एनकाउंटर कर देना चाहिए था। यह किसी भी हालत में बचने नहीं चाहिए। डीजीपी ने तीनों आरोपितों को न्यायालय से फांसी की सजा दिलाने का आश्वासन दिया।

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने अंकिता के पिता को कहा कि, पुलिस इस मामले में दिन-रात एक किए हैं, अगर कोई कमी रह गई हो तो वह हमें अवश्य बताएं। इस पर वीरेंद्र भंडारी ने कहा कि, पुलिस हमारी पूरी मदद कर रही है। क्षेत्र के पटवारी को सख्त सजा मिलनी चाहिए और रिसॉर्ट में इस हत्याकांड से संबंधित कोई भी साक्ष्य नष्ट ना हो पाए। डीजीपी ने कहा कि, पटवारी को निलंबित कर दिया गया है। साक्ष्य को किसी भी हाल में नष्ट नहीं होने दिया जाएगा। पुलिस ने सीसीटीवी से ही पता लगा लिया था कि, अंकिता की घटना के रोज क्या लोकेशन थी। डीजीपी ने आश्वस्त किया कि पुलिस मजबूत विवेचना करने के साथ न्यायालय में मजबूत सबूत पेश कर तीनों लोग को हर हालत में कठोर सजा दिलवाएगी।

अंकिता के पिता ने डीजीपी से कहा कि, उनकी बेटी के हत्यारों का एनकाउंटर कर देना चाहिए था। डीजीपी ने कहा हम कानूनी प्रक्रिया से बाहर नहीं है। हम उन्हें हर हाल में फांसी की सजा दिलाएंगे। साथ ही उन्होंने यह भी अपील की थी इस मामले में किसी भी तरह से अशांति ना हो। जो कोई भी कमी रह जाती है तो अंकिता के पिता अपर पुलिस अधीक्षक शेखर सुयाल से बात कर सकते हैं, वह एक अच्छे अधिकारी हैं और यदि पुलिस से शिकायत है तो वह स्वयं मुझे फोन कर सकते हैं।

वहीं शनिवार को ऋषिकेश एम्स में पोस्टमार्टम अंकिता के शव का पोस्टमार्टम हुआ। इस दौरान अंकिता के पिता वीरेंद्र सिंह भंडारी ने लोगों से आग्रह किया कि, वह हमारा सहयोग करें। उन्होंने बेटी के हत्यारों को फांसी की सजा दिलाने की मांग की। साथ ही सभी हत्यारोपियों की संपत्ति को जब्त कर उस पर बुलडोजर चलाने की भी मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.