उत्तरकाशी: उत्तरकाशी में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां साथ में काम करने वाले एक वर्कर ने अपने ही साथी को नदी में धक्का देकर उसकी जान ले ली। वह अपने साथी की डांट और काम में आर्डर चलाने से नाराज था, जिसके बाद उसने पार्टी के बहाने पहले शराब पिलाई, फिर उसे मौत के घाट उतार दिए। यह घटना सीसीटीवी में कैद हो गई। देखिए वीडियो..

पुलिस के अनुसार, 31 जुलाई को वादी शिवराज गुसांई पुत्र मदन सिंह गुसाई (निवासी लदाड़ी थाना कोतवाली उत्तरकाशी) ने कोतवाली उत्तरकाशी पर लिखित तहरीर दी कि, उनकी विश्वनाथ स्वीट शॉप पर काम करने वाला सोबन सिंह पंवार लापता हो गया है। तहरीर के आधार पर कोतवाली उत्तरकाशी पर तत्काल उक्त व्यक्ति की गमुशुदगी दर्ज की गई।

मामला उत्तरकाशी पुलिस अधीक्षक अर्पण यदुवंशी के संज्ञान में आते ही क्षेत्राधिकारी और प्रभारी कोतवाली को गुमशुदा की तलाश के लिए दिशा-निर्देश दिये गये। गुमशुदा की तलाश के लिए कार्यवाहक कोतवाली प्रभारी मोहन कठैत के नेतृत्व मे एक टीम गठित की गयी।

पुलिस टीम ने मामले में गहनता से जांच करते हुये सन्देह के आधार पर CCTV फुटेज खंगाले। फुटेज का अवलोकन करने पर पाया कि गुमशुदा सोबन सिंह पंवार को उसके साथ ही होटल में हेल्पर का काम करने वाले महादेव नौटियाल ने 30 जुलाई की रात को केदारघाट के पास भागीरथी नदी में फेंककर मार दिया है। पुलिस टीम ने कार्यवाही करते हुये करीब 06 घण्टे के अन्दर ही अगली सायं को महादेव नौटियाल को हिरासत में ले लिया।

महादेव नौटियाल ने सख्ती से पूछताछ करने पर बताया कि, “दुकान में काम करने के दौरान अक्सर सोबन सिंह पंवार मुझे काम करने के लिये डांटता रहता था, टॉर्चर करता था और मेरे ऊपर अपना आर्डर चलाता था, जिस कारण से मेरे मन में सोबन सिंह पंवार के प्रति बहुत गुस्सा था और मैंने उसे जान से मारने की ठान ली थी। मैंने पहले से ही अपने मन में सोबन सिंह को जान से मारने की पूरी प्लानिंग बना ली थी। 30 जुलाई को मैंने दुकान मालिक से 1500 रुपए लिये और ठेके से शराब मंगा के रखी थी। मैंने अपने उस्ताद सोबन सिंह से बोला कि आज पार्टी करते हैं, फिर हम दोनों ने साथ में बैठकर शराब पी। शराब खत्म होने के बाद मैंने बोला कि चल और शराब पीते हैं और बहाने से मैं उस्ताद को अंग्रेजी शराब के ठेके उत्तरकाशी लाया। वहां पर मैंने एक क्वार्टर शराब और लिया। हम दोनों ने वह क्वार्टर पिया।

पूछताछ में महादेव नौटियाल ने आगे बताया कि, शराब पीने के बाद मैं उसे अपने साथ – साथ केदारघाट पर ले गया। मैंने उसे बातों में उलझाया और सोबन सिंह भी मोबाईल फोन से विडीयो बनाने लगा। मैं सोबन सिंह को विडियो बनाते हुये केदारघाट भगीरथी नदी के किनारे पर लगी रेलिंग के पास ले गया और मौका पाकर मैने सोबन सिंह पंवार के पांव पकड़कर नदी में गिराकर जान से मार दिया। उसके बाद मै वहां से अपने घर चला गया था। मैं दूसरे दिन स्वीट शॉप मालिक के साथ सोबन सिंह पंवार की गुमशुदगी दर्ज करवाने के लिये इसलिये थाने आया ताकि मुझ पर कोई शक न करे।”

मामले में प्राप्त साक्ष्यों व अभियुक्त के बयानों के आधार पर गुमशुदगी को धारा 302 भादवि के अभियोग में तरमीम किया गया। अभियुक्त के आपराधिक इतिहास की जानकारी जुटाई जा रही है, अभियुक्त को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया।

गिरफ्तार अभियुक्त महादेव नौटियाल (उम्र-32 वर्ष) पुत्र गोविन्द राम नौटियाल, निवासी ज्ञानसू थाना कोतवाली उत्तरकाशी, मूल निवासी- देवर तहसील प्रतापनगर, थाना लम्बगांव, टिहरी गढवाल से है।

वहीं मृतक सोबन सिंह पंवार (उम्र-42 वर्ष) पुत्र जब्बर सिंह पंवार, निवासी खोलगढ प्रतापनगर, थाना लम्बगांव टिहरी गढवाल से था।

गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में व0उ0नि0 मोहन कठैत (कार्यवाहक कोतवाली प्रभारी), उ0नि0 प्रकाश राणा, कानि0 दीपक सिंह, कानि0 गोविन्द सिंह, कानि0 सरदार सिंह, कानि0 प्रमोद सिंह, कानि0 मनीष मंमगाई, कानि0 कपिल और कानि0 नीरज रावत शामिल रहे। मामले का खुलासा और गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम की सराहना करते हुये पुलिस अधीक्षक ने उत्साहवर्धन हेतु टीम को 5,000रु0 के पारितोषिक देने की घोषणा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.