उत्तराखंड: अब मरीजों के लिए घर पहुंचेगी दवाई, जल्द शुरू होगी सेवा





                           
                       

देहरादून: मरीजों को अब घर बैठे दवाई मिलेगी। इसके लिए सरकार तैयारी कर रही है। प्रभारी सचिव और NHM मिशन निदेशक डॉ. आर. राजेश कुमार ने स्वास्थ्य क्षेत्र को लेकर अपनी योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि दुर्गम क्षेत्रों में टेली मेडिसिन के जरिए मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधा दी जाएगी।

प्रभारी सचिव ने कहा कि एनएचएम का उद्देश्य राज्य सरकार की ओर से दी जा रही स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ आम लोगों तक पहुंचे। इसी उद्देश्य से आने वाले समय के लिए स्वास्थ्य सेवाओं को आम लोगों तक पहुंचाने की रणनीति तैयार की जाएगी। अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाओं की निगरानी के लिए अधिकारियों की एक क्विक रिस्पांस टीम बनाई जाएगी। जो अस्पतालों का औचक निरीक्षण करेंगे।

उत्तराखंड: अस्पताल के बाथरूम में नाबालिग ने बच्चे को दिया जन्म दोनों की मौत, आखिर डॉक्टर ने क्या देखा?

अस्पतालों में अधिकारियों व कर्मचारियों समय पर पहुंचे। इसके लिए दैनिक उपस्थिति पर भी ध्यान दिया जाएगा। इसके अलावा बिना पंजीकरण के चल रहे स्वास्थ्य संस्थानों और झोला छाप डॉक्टरों पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मातृ-शिशु मृत्यु दर राष्ट्रीय औसत से बेहतर है। इसके बावजूद मातृ-शिशु मृत्यु दर को और कम करने के लिए प्रयास किए जाएंगे।

अस्पतालों में प्रसव के लिए आने वाली गर्भवती महिला के उपचार में किसी तरह कोई कमी न रहे। इसके लिए अधिकारियों को जिम्मेदारी तय की जाएगी। मानसून सीजन में आपदा को देखते हुए राज्य व जिला स्तर के कंट्रोल रूम में डॉक्टर की तैनाती की जाती है। डेंगू हॉट स्पॉट क्षेत्रों की पहचान कर रोकथाम और जागरूकता के लिए आशा वर्कर घर-घर जाकर लोगों जानकारी दे रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.